vinita

  •  सोच तो बहुत दिनों से रहे थे, लेकिन जाना न हो पाया था…. लेकिन,इस बार आखिर plan बन ही गया आगरा जाने का….

    शताब्दी में tickets लिए गए, और हम तैयार…
    रात को ही खबर मिली auto वालों की strike है…

  • बंटवारे के दो-तीन साल बाद पाकिस्तान और हिंदुस्तान की हुकूमतों को ख़याल आया कि सामान्य क़ैदियों की तरह पागलों का भी तबादला होना चाहिए, यानी जो मुसलमान पागल हिंदुस्तान के पागलख़ानों में हैं, उन्हें पाकिस्तान पहुँचा

  • जब मैं जाड़ों में लिहाफ ओढ़ती हूँ तो पास की दीवार पर उसकी परछाई हाथी की तरह झूमती हुई मालूम होती है। और एकदम से मेरा दिमाग बीती हुई दुनिया के पर्दों में दौडने-भागने लगता है। न जाने क्या कुछ याद आने लगता है।

    माफ

  • vinita posted an update 3 years, 1 month ago

    जीवन को दौड नहीं मानकर,यदि खेल मानकर चला जाए तो ठीक है।
    ये जो किसी दौड में प्रथम द्वितीय…का स्थान होता है दुःख की जड़ वही है।ये प्रतियोगिता हमें जीने नही देती है।कहते है sportsman spirit -लेकिन ऐसा होता कहां है?
    असफलता हमेशा सफलता की सीढ़ी ही नहीं होती है-कभी कभी घृणा के बीज भी होते हैं……
    जाने अनजाने हम अपनों के साथ दौड…[Read more]

  • महत्वाकांक्षी,

    महत्व की आकांक्षा या जिस चीज का महत्व मेरे लिए है ,उस चीज की आकांक्षा।

    हर इंसान के लिए इस शब्द के मायने अलग अलग होते हैं। लकिन है ये चाहना ही…..
    मेरी क्या है?

    शायद शांतिपूर्वक दिन गुजर

  • बचपन की ऒर मन लौटता है….

    शायद आगे कुछ दिख नहीं रहा है इसलिए…

    बहरहाल बात जो भी हो…

    बचपन, किशोरावस्था कितना उन्मुक्त था हम लोगों का। हम यानि हम दोनों बहनों का।

    आज भी लड़के और लड़की के बीच अंतर करने

  • ईश्वरसिंह ज्यों ही होटल के कमरे में दांखिला हुआ, कुलवन्त कौर पलंग पर से उठी। अपनी तेज-तेज आँखों से उसकी तरफ घूरकर देखा और दरवाजे की चिटखनी बन्द कर दी। रात के बारह बज चुके थे। शहर का वातावरण एक अजीब रहस्यमयी खामोशी में गर्क था।

    कुलवन्त कौर पलंग पर आलथी-पालथी मारकर बैठ गयी। ईशरसिंह, जो शायद अपने समस्यापूर्ण विचारों के उलझे हुए धागे खोल रहा था, हाथ में किरपान लेकर उस कोने में खड़ा था। कुछ क्षण इसी तरह खामोशी में बीत गये। कुलवन्त कौर को थोड़ी देर के बाद अपना आसन पसन्द न आया और दोनों टाँगें पलंग के नीचे लटकाकर उन्हें हिलाने लगी। ईशरसिंह फिर भी कुछ न बोला।

    कुलवन्त कौर भरे-भरे हाथ-पैरों वाली औरत थी। चौड़े-चकले कूल्हे थुल-थुल करने वाले गोश्त से भरपूर। कुछ बहुत ही ज्यादा ऊपर को उठा हुआ सीना,तेज आँखें, ऊपरी होंठ पर सुरमई गुबार, ठोड़ी की बनावट से पता चलता था कि बड़े धड़ल्ले की औरत है।

    ईशरसिंह सिर नीचा किये एक कोने में चुपचाप खड़ा था। सिर पर उसके कसकर बाँधी हुई पगड़ी ढीली हो रही थी। उसने हाथ में जो किरपान थामी हुई थी, उसमें थोड़ी-थोड़ी कम्पन थी, उसके आकार-प्रकार और डील-डौल से पता चलता था कि वह कुलवन्त कौर जैसी औरत के लिए सबसे उपयुक्त मर्द है।

    कुछ क्षण जब इसी तरह खामोशी में बीत गये तो कुलवन्त कौर छलक पड़ी, लेकिन तेज-तेज आँखों को नचाकर वह सिर्फ इस कदर कह सकी-”ईशरसियाँ!”

    ईशरसिंह ने गर्दन उठाकर कुलवन्त कौर की तरफ देखा, मगर उसकी निगाहों की गोलियों की ताब न लाकर मुँह दूसरी तरफ मोड लिया।

    कुलवन्त कौर चिल्लायी-”ईशरसिंह!” लेकिन फौरन ही आवांज भींच ली, पलंग पर से उठकर उसकी तरफ होती हुई बोली-”कहाँ गायब रहे तुम इतने दिन?”

    ईशरसिंह ने खुश्क होठों पर जबान फेरी, ”मुझे मालूम नहीं।”

    कुलवन्त कौर भन्ना गयी, ”यह भी कोई माइयावाँ जवाब है!”

    ईशरसिंह ने किरपान एक तरफ फेंक दी और पलंग पर लेट गया। ऐसा मालूम होता था, वह कई दिनों का बीमार है। कुलवन्त कौर ने पलंग की तरफ देखा, जो अब ईशरसिंह से लबालब भरा था और उसके दिल में हमदर्दी की भावना पैदा हो गयी। चुनांचे उसके माथे पर हाथ रखकर उसने बड़े प्यार से पूछा-”जानी, क्या हुआ तुम्हें?”

    ईशरसिंह छत की तरफ देख रहा था। उससे निगाहें हटाकर उसने कुलवन्त कौर ने परिचित चेहरे की टटोलना शुरू किया-”कुलवन्त।”

    आवांज में दर्द था। कुलवन्त कौर सारी-की-सारी सिमटकर अपने ऊपरी होंठ में आ गयी, ”हाँ, जानी।” कहकर वह उसको दाँतों से काटने लगी।

    ईशरसिंह ने पगड़ी उतार दी। कुलवन्त कौर की तरफ सहारा लेनेवाली निगाहों से देखा। उसके गोश्त भरे कुल्हे पर जोर से थप्पा मारा और सिर को झटका देकर अपने-आपसे कहा, ”इस कुड़ी दा दिमांग ही खराब है।”

    झटके देने से उसके केश खुल गये। कुलवन्त अँगुलियों से उनमें कंघी करने लगी। ऐसा करते हुए उसने बड़े प्यार से पूछा, ”ईशरसियाँ, कहाँ रहे तुम इतने दिन?”

    ”बुरे की मां के घर।” ईशरसिंह ने कुलवन्त कौर को घूरकर देखा और फौरन दोनों हाथों से उसके उभरे हुए सीने को मसलने लगा-”कसम वाहे गुरु की,बड़ी जानदार औरत हो!”

    कुलवन्त कौर ने एक अदा के साथ ईशरसिंह के हाथ एक तरफ झटक दिये और पूछा, ”तुम्हें मेरी कसम, बताओ कहाँ रहे?-शहर गये थे?”

    ईशरसिंह ने एक ही लपेट में अपने बालों का जूड़ा बनाते हुए जवाब दिया, ”नहीं।”

    कुलवन्त कौर चिढ़ गयी, ”नहीं, तुम जरूर शहर गये थे-और तुमने बहुत-सा रुपया लूटा है, जो मुझसे छुपा रहे हो।”

    ”वह अपने बाप का तुख्म न हो, जो तुमसे झूठ बोले।”

    कुलवन्त कौर थोड़ी देर के लिए खामोश हो गयी, लेकिन फौरन ही भड़क उठी, ”लेकिन मेरी समझ में नहीं आता उस रात तुम्हें हुआ क्या?-अच्छे-भले मेरे साथ लेटे थे। मुझे तुमने वे तमाम गहने पहना रखे थे, जो तुम शहर से लूटकर लाए थे। मेरी पप्पियाँ ले रहे थे। पर जाने एकदम तुम्हें क्या हुआ, उठे और कपड़े पहनकर बाहर निकल गये।”

    ईशरसिंह का रंग जर्द हो गया। कुलवन्त ने यह तबदीली देखते ही कहा, ”देखा, कैसे रंग पीला पड़ गया ईशरसियाँ, कसम वाहे गुरु की, जरूर कुछ दाल में काला है।”

    ”तेरी जान कसम, कुछ भी नहीं!”

    ईशरसिंह की आवांज बेजान थी। कुलवन्ता कौर का शुबहा और ज्यादा मजबूत हो गया। ऊपरी होंठ भींचकर उसने एक-एक शब्द पर जोर देते हुए कहा, ”ईशरसियाँ, क्या बात है, तुम वह नहीं हो, जो आज से आठ रोज पहले थे।”

    ईशरसिंह एकदम उठ बैठा, जैसे किसी ने उस पर हमला किया था। कुलवन्त कौर को अपने मजबूत बाजुओं में समेटकर उसने पूरी ताकत के साथ झ्रझोड़ना शुरू कर दिया, ”जानी, मैं वहीं हूं-घुट-घुट कर पा जफ्फियाँ, तेरी निकले हड्डाँ दी गर्मी।”

    कुलवन्त कौर ने कोई बाधा न दी, लेकिन वह शिकायत करती रही, ”तुम्हें उस रात €या हो गया था?”

    ”बुरे की मां का वह हो गया था!”

    ”बताओगे नहीं?”

    ”कोई बात हो तो बताऊँ।”

    ”मुझे अपने हाथों से जलाओ, अगर झूठ बोलो।”

    ईशरसिंह ने अपने बाजू उसकी गर्दन में डाल दिये और होंठ उसके होंठ पर गड़ा दिए। मूँछों के बाल कुलवन्त कौर के नथूनों में घुसे, तो उसे छींक आ गयी। ईशरसिंह ने अपनी सरदी उतार दी और कुलवन्त कौर को वासनामयी नंजरों से देखकर कहा, ”आओ जानी, एक बाजी ताश की हो जाए।”

    कुलवन्त कौर के ऊपरी होंठ पर पसीने की नन्ही-नन्ही बूंदें फूट आयीं। एक अदा के साथ उसने अपनी आँखों की पुतलियाँ घुमायीं और कहा, ”चल, दफा हो।”

    ईशरसिंह ने उसके भरे हुए कूल्हे पर जोर से चुटकी भरी। कुलवन्त कौर तड़पकर एक तरफ हट गयी, ”न कर ईशरसियाँ, मेरे दर्द होता है!”

    ईशरसिंह ने आगे बढ़कर कुलवन्त कौर की ऊपरी होंठ अपने दाँतों तले दबा लिया और कचकचाने लगा। कुलवन्त कौर बिलकुल पिघल गयी। ईशरसिंह ने अपना कुर्ता उतारकर फेंक दिया और कहा, ”तो फिर हो जाए तुरप चाल।”

    कुलवन्त कौर का ऊपरी होंठ कँपकँपाने लगा। ईशरसिंह ने दोनों हाथों से कुलवन्त कौर की कमींज का बेरा पकड़ा और जिस तरह बकरे की खाल उतारते हैं, उसी तरह उसको उतारकर एक तरफ रख दिया। फिर उसने घूरकर उसके नंगे बदन को देखा और जोर से उसके बाजू पर चुटकी भरते हुए कहा-”कुलवन्त, कसम वाहे गुरु की! बड़ी करारी औरत हो तुम।”

    कुलवन्त कौर अपने बाजू पर उभरते हुए धŽबे को देखने लगी। ”बड़ा जालिम है तू ईशरसियाँ।”

    ईशरसिंह अपनी घनी काली मूँछों में मुस्काया, ”होने दे आज जालिम।” और यह कहकर उसने और जुल्म ढाने शुरू किये। कुलवन्त कौन का ऊपरी होंठ दाँतों तले किचकिचाया, कान की लवों को काटा, उभरे हुए सीने को भँभोडा, भरे हुए कूल्हों पर आवांज पैदा करने वाले चाँटे मारे, गालों के मुंह भर-भरकर बोसे लिये, चूस-चूसकर उसका सीना थूकों से लथेड़ दिया। कुलवन्त कौर तेंज आँच पर चढ़ी हुई हांड़ी की तरह उबलने लगी। लेकिन ईशरसिंह उन तमाम हीलों के बावजूद खुद में हरकत पैदा न कर सका। जितने गुर और जितने दाँव उसे याद थे, सबके-सब उसने पिट जाने वाले पहलवान की तरह इस्तेमाल कर दिये,परन्तु कोई कारगर न हुआ। कुलवन्त कौर के सारे बदन के तार तनकर खुद-ब-खुद बज रहे थे, गैरजरूरी छेड़-छाड़ से तंग आकर कहा, ”ईश्वरसियाँ, काफी फेंट चुका है, अब पत्ता फेंक !”

    यह सुनते ही ईशरसिंह के हाथ से जैसे ताश की सारी गड्डी नीचे फिसल गयी। हाँफता हुआ वह कुलवन्त के पहलू में लेट गया और उसके माथे पर सर्द पसीने के लेप होने लगे।

    कुलवन्त कौर ने उसे गरमाने की बहुत कोशिश की, मगर नाकाम रही। अब तक सब कुछ मुंह से कहे बगैर होता रहा था, लेकिन जब कुलवन्त कौर के क्रियापेक्षी अंगों को सख्त निराशा हुई तो वह झल्लाकर पलंग से उतर गयी। सामने खूँटी पर चादर पड़ी थी, उसे उतारकर उसने जल्दी-जल्दी ओढ़कर और नथुने फुलाकर बिफरे हुए लहजे में कहा, ”ईशरसियाँ, वह कौन हरामजादी है, जिसके पास तू इतने दिन रहकर आया है और जिसने तुझे निचोड़ डाला है?”

    कुलवन्त कौर गुस्से से उबलने लगी, ”मैं पूछती हूं, कौन है वह चड्डो-है वह उल्फती, कौन है वह चोर-पत्ता?”

    ईशरसिंह ने थके हुए लहजे में कहा, ”कोई भी नहीं कुलवन्त, कोई भी नहीं।”

    कुलवन्त कौर ने अपने उभरे हुए कूल्हों पर हाथ रखकर एक दृढ़ता के साथ कहा-”ईशरसियाँ! मैं आज झूठ-सच जानकर रहूँगी-खा वाहे गुरु जी की कसम-इसकी तह में कोई औरत नहीं?”

    ईशरसिंह ने कुछ कहना चाहा, मगर कुलवन्त कौर ने इसकी इजाजत न दी,

    ”कसम खाने से पहले सोच ले कि मैं भी सरदार निहालसिंह की बेटी हूं तक्का-बोटी कर दूँगी अगर तूने झूठ बोला-ले, अब खा वाहे गुरु जी की कसम-इसकी तह में कोई औरत नहीं?”

    ईशरसिंह ने बड़े दु:ख के साथ हाँ में सिर हिलाया। कुलवन्त कौर बिलकुल दीवानी हो गयी। लपककर कोने में से किरपान उठायी। म्यान को केले के छिलके की तरह उतारकर एक तरफ फेंका और ईशरसिंह पर वार कर दिया।

    आन-की-आन में लहू के फव्वारे छूट पड़े। कुलवन्त कौर को इससे भी तसल्ली न हुई तो उसने वहशी बिल्लियों की तरह ईशरसिंह के केश नोचने शुरू कर दिये। साथ-ही-साथ वह अपनी नामालूम सौत को मोटी-मोटी गालियाँ देती रही। ईशरसिंह ने थोड़ी देर बाद दुबली आवांज में विनती की, ”जाने दे अब कुलवन्त, जाने दे।”

    आवांज में बला का दर्द था। कुलवन्त कौर पीछे हट गयी।

    खून ईशरसिंह के गले में उड़-उड़ कर उसकी मूँछों पर गिर रहा था। उसने अपने काँपते होंठ खोले और कुलवन्त कौर की तरफ शुक्रियों और शिकायतों की मिली-जुली निगाहों से देखा।

    ”मेरी जान, तुमने बहुत जल्दी की-लेकिन जो हुआ, ठीक है।”

    कुलवन्त कौर कीर् ईष्या फिर भड़की, ”मगर वह कौन है, तेरी मां?”

    लहू ईशरसिंह की जबान तक पहुँच गया। जब उसने उसका स्वाद चखा तो उसके बदले में झुरझुरी-सी दौड़ गयी।

    ”और मैं…और मैं भेनी या छ: आदमियों को कत्ल कर चुका हूं-इसी किरपान से।”

    कुलवन्त कौर के दिमाग में दूसरी औरत थी-”मैं पूछती हूं कौन है वह हरामजादी?”

    ईशरसिंह की आँखें धुँधला रही थीं। एक हल्की-सी चमक उनमें पैदा हुई और उसने कुलवन्त कौर से कहा, ”गाली न दे उस भड़वी को।”

    कुलवन्त कौर चिल्लायी, ”मैं पूछती हूं, वह कौन?”

    ईशरसिंह के गले में आवांज रुँध गयी-”बताता हूं,” कहकर उसने अपनी गर्दन पर हाथ फेरा और उस पर अपनी जीता-जीता खून देखकर मुस्कराया, ”इनसान माइयाँ भी एक अजीब चीज है।”

    कुलवन्त कौर उसके जवाब का इन्तजार कर रही थी, ”ईशरसिंह, तू मतलब की बात कर।”

    ईशरसिंह की मुस्कराहट उसकी लहू भरी मूँछों में और ज्यादा फैल गयी, ”मतलब ही की बात कर रहा हूं-गला चिरा हुआ है माइयाँ मेरा-अब धीरे-धीरे ही सारी बात बताऊँगा।”

    और जब वह बताने लगा तो उसके माथे पर ठंडे पसीने के लेप होने लगे, ”कुलवन्त ! मेरी जान-मैं तुम्हें नहीं बता सकता, मेरे साथ क्या हुआ?-इनसान कुड़िया भी एक अजीब चीज है-शहर में लूट मची तो सबकी तरह मैंने भी इसमें हिस्सा लिया-गहने-पाते और रुपये-पैसे जो भी हाथ लगे, वे मैंने तुम्हें दे दिये-लेकिन एक बात तुम्हें न बतायी?”

    ईशरसिंह ने घाव में दर्द महसूस किया और कराहने लगा। कुलवन्त कौन ने उसकी तरफ तवज्जह न दी और बड़ी बेरहमी से पूछा, ”कौन-सी बात?”ईशरसिंह ने मूँछों पर जमे हुए जरिए उड़ाते हुए कहा, ”जिस मकान पर…मैंने धावा बोला था…उसमें सात…उसमें सात आदमी थे-छ: मैंने कत्ल कर दिये…इसी किरपान से, जिससे तूने मुझे…छोड़ इसे…सुन…एक लड़की थी, बहुत ही सुन्दर, उसको उठाकर मैं अपने साथ ले आया।”

    कुलवन्त कौर खामोश सुनती रही। ईशरसिंह ने एक बार फिर फूँक मारकर मूँछों पर से लहू उड़ाया-कुलवन्ती जानी, मैं तुमसे क्या कहूँ, कितनी सुन्दर थी-मैं उसे भी मार डालता, पर मैंने कहा, ”नहीं ईशरसियाँ, कुलवन्त कौर ते हर रोज मजे लेता है, यह मेवा भी चखकर देख!”

    कुलवन्त कौर ने सिर्फ इस कदर कहा, ”हूं।”

    ”और मैं उसे कन्धे पर डालकर चला दिया…रास्ते में…क़्या कह रहा था मैं…हाँ, रास्ते में…नहर की पटरी के पास, थूहड़ की झाड़ियों तले मैंने उसे लिटा दिया-पहले सोचा कि फेंटूँ, फिर खयाल आया कि नहीं…” यह कहते-कहते ईशरसिंह की जबान सूख गयी।

    कुलवन्त ने थूक निकलकर हलक तर किया और पूछा, ”फिर क्या हुआ?”

    ईशरसिंह के हलक से मुश्किल से ये शब्द निकले, ”मैंने…मैंने पत्ता फेंका…लेकिन…लेकिन…।”

    उसकी आवांज डूब गयी।

    कुलवन्त कौर ने उसे झिंझोड़ा, ”फिर क्या हुआ?”

    ईशरसिंह ने अपनी बन्द होती आँखें खोलीं और कुलवन्त कौर के जिस्म की तरफ देखा, जिसकी बोटी-बोटी थिरक रही थी-”वह…वह मरी हुई थी…लाश थी…बिलकुल ठंडा गोश्त…जानी, मुझे अपना हाथ दे…!”

    कुलवन्त कौर ने अपना हाथ ईशरसिंह के हाथ पर रखा जो बर्फ से भी ज्यादा ठंडा था।

     

     

     

  • साधारण स्वतंत्रता के आभाव में चतुरता की ऐसी मज़बूरी ही नारी का चलित्तर कहलाती है।
    -यशपाल (झूठा सच)

    मैत्रयी पुष्पा का त्रिया हट्ठ पढ़े।अच्छी लगी। लकिन कहानी से पहले लेखिका ने जो दो शब्द लिखे हैं वो बहुत पसंद आया।
    एकदम मेरे मन की बातें–

    हम अपने औरत्पने के चलते-अपनी निजी अनुभूतियों को कभी व्यक्त नहीं करना चाहते हैं।

    अपनी छवि के प्रति इतने conscious रहते हैं की कहानी के पात्र को भी आदर्शवादी ही दिखाना चाहते हैं। ऐसा न हो की -पात्र के विषय में लिखी ओछी मनोवृत्तियाँ -मेरी अपनी मनोवृत्ति ही समझ ली जाएँ। विशेषकर यौन्सुचिता को लेकर।

    औरत -माँ ,पत्नी,बहन के मर्यादापूर्ण स्थान पर रहने के बावजूद मानव ही है,तमाम मानवीय कमजोरियों के साथ इस बात को प्रकट नहीं करना चाहते हैं कभी भी।
    लेखिका से मिल पाते—।

     

     

     

  • मंत्री थे तब उनके दरवाजे कार बँधी रहती थी। आजकल क्वार्टर में रहते हैं और दरवाजे भैंस बँधी रहती है। मैं जब उनके यहाँ पहुँचा वे अपने लड़के को दूध दुहना सिखा रहे थे और अफसोस कर रहे थे कि कैसी नई पीढ़ी आ गई है जिसे भैंसें दुहना भी नहीं आता।

    मुझे देखा तो बोले – ‘जले पर नमक छिड़कने आए हो!’

    ‘नमक इतना सस्ता नहीं है कि नष्ट किया जाए। कांग्रेस राज में नमक भी सस्ता नहीं रहा।’

    ‘कांग्रेस को क्यों दोष देते हो! हमने तो नमक-आंदोलन चलाया।’ – फिर बड़बड़ाने लगे, ‘जो आता है कांग्रेस को दोष देता है। आप भी क्या विरोधी दल के हैं?’

    ‘आजकल तो कांग्रेस ही विरोधी दल है।’

    वे चुप रहे। फिर बोले, ‘कांग्रेस विरोधी दल हो ही नहीं सकती। वह तो राज करेगी। अंग्रेज हमें राज सौंप गए हैं। बीस साल से चला रहे हैं और सारे गुर जानते हैं। विरोधियों को क्या आता है, फाइलें भी तो नहीं जमा सकते ठीक से। हम थे तो अफसरों को डाँट लगाते थे, जैसा चाहते थे करवा लेते थे। हिम्मत से काम लेते थे। रिश्तेदारों को नौकरियाँ दिलवाईं और अपनेवालों को ठेके दिलवाए। अफसरों की एक नहीं चलने दी। करके दिखाए विरोधी दल! एक जमाना था अफसर खुद रिश्वत लेते थे और खा जाते थे। हमने सवाल खड़ा किया कि हमारा क्या होगा, पार्टी का क्या होगा?’

    ‘हमने अफसरों को रिश्वत लेने से रोका और खुद ली। कांग्रेस को चंदा दिलवाया, हमारी बराबरी ये क्या करेंगे?’

    ‘पर आपकी नीतियाँ गलत थीं और इसलिए जनता आपके खिलाफ हो गई!’

    ‘कांग्रेस से यह शिकायत कर ही नहीं सकते आप। हमने जो भी नीतियाँ बनाईं उनके खिलाफ काम किया है। फिर किस बात की शिकायत? जो उस नीति को पसंद करते थे, वे हमारे समर्थक थे, और जो उस नीति के खिलाफ थे वे भी हमारे समर्थक थे, क्यों कि हम उस नीति पर चलते ही नहीं थे।’

    मैं निरुत्तर हो गया।

    ‘आपको उम्मीद है कि कांग्रेस फिर इस राज्य में विजयी होगी?’

    ‘क्यों नहीं? उम्मीद पर तो हर पार्टी कायम है। जब विरोधी दल असफल होंगे और बेकार साबित होंगे, जब दो गलत और असफल दलों में से ही चुनाव करना होगा, तो कांग्रेस क्या बुरी? बस तब हम फिर ‘पावर’ में आ जाएँगे। ये विरोधी दल उसी रास्ते पर जा रहे हैं जिस पर हम चले थे और इनका निश्चित पतन होगा।’

    ‘जैसे आपका हुआ।’

    ‘बिलकुल।’

    ‘जब से मंत्री पद छोड़ा आपके क्या हाल हैं?’

    ‘उसी तरह मस्त हैं, जैसे पहले थे। हम पर कोई फर्क नहीं पड़ा। हमने पहले से ही सिलसिला जमा लिया था। मकान, जमीन, बंगला सब कर लिया। किराया आता है। लड़के को भैस दुहना आ जाए, तो डेरी खोलेंगे और दूध बेचेंगे, राजनीति में भी रहेंगे और बिजनेस भी करेंगे। हम तो नेहरू-गांधी के चेले हैं।’

    ‘नेहरू जी की तरह ठाठ से भी रह सकते हैं और गांधी जी की तरह झोंपड़ी में भी रह सकते हैं। खैर, झोंपड़ी का तो सवाल ही नहीं उठता। देश के भविष्य की सोचते थे, तो क्या अपने भविष्य की नहीं सोचते! छोटे भाई को ट्रक दिलवा दिया था। ट्रक का नाम रखा है देश-सेवक। परिवहन की समस्या हल करेगा।’

    ‘कृषि-मंत्री था, तब जो खुद का फार्म बनाया था, अब अच्छी फसल देता है। जब तक मंत्री रहा, एक मिनट खाली नहीं बैठा, परिश्रम किया, इसी कारण आज सुखी और संतुष्ट हूँ। हम तो कर्म में विश्वास करते हैं। धंधा कभी नहीं छोड़ा, मंत्री थे तब भी किया।’

    ‘आप अगला चुनाव लड़ेंगे?’

    ‘क्यों नहीं लड़ेंगे। हमेशा लड़ते हैं, अब भी लड़ेंगे। कांग्रेस टिकट नहीं देगी तो स्वतंत्र लड़ेंगे।’

    ‘पर यह तो कांग्रेस के खिलाफ होगा।’

    ‘हम कांग्रेस के हैं और कांग्रेस हमारी है। कांग्रेस ने हमें मंत्री बनने को कहा तो बने। सेवा की है। हमें टिकट देना पड़ेगा। नहीं देंगे तो इसका मतलब है कांग्रेस हमें अपना नहीं मानती। न माने। पहले प्रेम, अहिंसा से काम लेंगे, नहीं चला तो असहयोग आंदोलन चलाएँगे। दूसरी पार्टी से खड़े हो जाएँगे।’

    ‘जब आप मंत्री थे, जाति-रिश्ते वालों को बड़ा फायदा पहुँचाया आपने।’

    ‘उसका भी भैया इतिहास है। जब हम कांग्रेस में आए और हमारे बारे में उड़ गई कि हम हरिजनों के साथ उठते-बैठते और थाली में खाना खाते हैं, जातिवालों ने हमें अलग कर दिया और हमसे संबंध नहीं रखे। हम भी जातिवाद के खिलाफ रहे और जब मंत्री बने, तो शुरू-शुरू में हमने जातिवाद को कसकर गालियाँ दीं।’

    ‘दरअसल हमने अपने पहलेवाले मंत्रिमंडल को जातिवाद के नाम से उखाड़ा था। सो शुरू में तो हम जातिवाद के खिलाफ रहे। पर बाद में जब जातिवालों को अपनी गलती पता लगी तो वे हमारे बंगले के चक्कर काटने लगे। जाति की सभा हुई और हमको मानपत्र दिया गया और हमको जाति-कुलभूषण की उपाधि दी। हमने सोचा कि चलो सुबह का भूला शाम को घर आया। जब जाति के लोग हमसे प्रेम करते हैं, तो कुछ हमारा भी फर्ज हो जाता है। हम भी जाति के लड़कों को नौकरियाँ दिलवाने, तबादले रुकवाने, लोन दिलवाने में मदद करते और इस तरह जाति की उन्नति और विकास में योग देते। आज हमारी जाति के लोग बड़े-बड़े पदों पर बैठे हैं और हमारे आभारी हैं कि हमने उन्हें देश की सेवा का अवसर दिया। मैंने लड़कों से कह दिया कि एम.ए. करके आओ चाहे थर्ड डिवीजन में सही, सबको लैक्चरर बना दूँगा। अपनी जाति बुद्धिमान व्यक्तियों की जाति होनी चाहिए। और भैया अपने चुनाव-क्षेत्र में जाति के घर सबसे ज्यादा हैं। सब सॉलिड वोट हैं। सो उसका ध्यान रखना पड़ता है। यों दुनिया जानती है, हम जातिवाद के खिलाफ हैं। जब तक हम रहे हमेशा मंत्रिमंडल में राजपूत और हरिजनों की संख्या नहीं बढ़ने दी। हम जातिवाद से संघर्ष करते रहे और इसी कारण अपनी जाति की हमेशा मेजॉरिटी रही।’

    लड़का भैंस दुह चुका था और अंदर जा रहा था। भूतपूर्व मंत्री महोदय ने उसके हाथ से दूध की बाल्टी ले ली।

    ‘अभी दो किलो दूध और होगा जनाब। पूरी दुही नहीं है तुमने। लाओ हम दुहें।’ – फिर मेरी ओर देखकर बोले, एक तरफ तो देश के बच्चों को दूध नहीं मिल रहा, दूसरी ओर भैंसें पूरी दुही नहीं जा रहीं। और जब तक आप अपने स्रोतों का पूरी तरह दोहन नहीं करते, देश का विकास असंभव हैं।’

    वे अपने स्रोत का दोहन करने लगे। लड़का अंदर जाकर रिकार्ड बजाने लगा और ‘चा चा चा’ का संगीत इस आदर्शवादी वातावरण में गूँजने लगा। मैंने नमस्कार किया और चला आया।

     

     

     

     

  • स्त्री में शासन करने की क्षमता शायद जन्मजात ही होती है। इसलिए एक कम पढीलिखी स्त्री भी अपने पति के उच्च पद से खौफ नहीं खाती। उसके प्रतिभा से कुंठित नहीं होती है,हीनभावना से ग्रसित नहीं होती।

    वहीँ पुरुष—-जहाँ

  • राम मुझे कभी भी देवतास्वरूप नहीं लगे। न ही अनुकरणीय व्यक्तित्व।
    सीता को त्यागना मेरे लिए,उनके द्वारा किया गया जघन्य अपराध ही रहा।

    आज महायात्रा गाथा-रांगेय राघव द्वारा रचित,पढ़ते पढ़ते अनायास ही एक ख्याल आया। बिल

  • कभी कभी किसी भद्दे से आदमी या औरत को ( मेरे हिसाब से) विशिष्ट शैली में सजे धजे देखते हैं तो बड़ा आश्चर्य होता है।
    कहते हैं की आइना झूठ नहीं बोलता है-
    जो सच है उसे दिखा ही देता है….
    लेकिन  मेरे ख्याल से आइना एक

  • vinita changed their profile picture 3 years, 4 months ago

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending

©2017 Kuch Teri Kuch Meri. All rights reserved.

or

Log in with your credentials

Forgot your details?